Best Hindi sex stories

Sab se achi Indian Hindi sex kahaniya!

साइबर कैफे से चैटिंग-1


Click to Download this video!

desi porn stories हैल्लो दोस्तों, में पटना से हूँ और में आज आप सबको एक रियल रोमांटिक स्टोरी बता रहा हूँ, मेरा नाम अभी है। अब में आपको बोर ना करते हुए सीधा अपनी स्टोरी पर आता हूँ। एक दिन में साइबर कैफे से चैटिंग कर रहा था, अब चैटिंग पर में एक लड़की से गप-शप कर रहा था। फिर उसने बताया कि वो पटना से चैटिंग कर रही है। तो मैंने कहा कि में भी पटना से चैटिंग कर रहा हूँ। फिर बात आगे बढ़ी और सेक्स पर आ गयी। फिर थोड़ी देर तक चैटिंग करने के बाद वो मुझसे चुदवाने के लिए राज़ी हो गयी। फिर मैंने उसका नाम पूछा तो उसने अपना नाम सोनी बताया। फिर उसने मेरा नाम पूछा तो मैंने भी उसे अपना नाम बता दिया। फिर उसने मुझसे संपर्क करने के लिए कहा तो मैंने उससे पूछा कि तुम किस साइबर कैफे से चैटिंग कर रही हो? तो उसने उस साइबर कैफे का नाम बताया तो में चौक गया क्योंकि में भी उसी साइबर कैफे से चैटिंग कर रहा था। तो मैंने उसे बताया, तो वो भी चौक पड़ी।

फिर उसने मेरा कैबिन नंबर पूछा तो मैंने उसे बता दिया, तो 2 मिनट के बाद ही एक गोरी, मस्त बदन की बहुत ही खूबसूरत लड़की मेरे कैबिन के बाहर खड़ी थी। फिर उसने कैबिन के दरवाजे से ही मुझे अपने पास बुलाया। तो में बाहर आया और पूछा कि सोनी? तो वो बोली कि हाँ, आओं चलते है। फिर हम दोनों बाहर आए और एक टैक्सी पकड़ ली। फिर वो मुझे अपने घर बसंत बिहार ले गयी, वो वहाँ पर एकदम अकेली रहती थी, उसका पति एक कंपनी में अमेरिका में काम करता था, वो महीने में सिर्फ़ 3-4 दिन के लिए ही पटना आता था, उसका घर बहुत ही खूबसूरत था। फिर उसने मुझे सोफे पर बैठने को कहा और कपड़े बदलने और चाय बनाने चली गयी।

अब लगभग 10 मिनट बीत चुके, तो में बैचेन होने लगा तो मैंने टी.वी ऑन कर दिया और देखने लगा। फिर 15 मिनट के बाद वो चाय लेकर आई, उसने केवल ब्रा और पेंटी पहन रखी थी, उसका बदन एकदम गोरा था, वो बहुत ही खूबसूरत और सेक्सी लग रही थी। फिर उसने चाय टेबल पर रखी और मेरी गोद में बैठकर चाय बनाने लगी। फिर उसने मुझे चाय दी और खुद मेरी गोद में ही बैठकर चाय पीने लगी। अब उसके गोद में बैठने से में जोश में आ गया था और मेरा लंड खड़ा हो गया था। फिर उसने भी मेरे खड़े लंड को महसूस किया और चाय पीते हुए अपनी चूत को मेरे लंड पर रगड़ने लगी। अब मुझे बहुत ही अच्छा लग रहा था। फिर 2 मिनट में ही हमने चाय खत्म की और वो मेरे ऊपर से हट गयी। फिर उसने मुझसे कहा कि मैंने तो सारे कपड़े निकाल दिए, लेकिन तुमने अभी तक अपने कपड़े पहन रखे है, तुम भी इन कपड़ों को उतार दो।

फिर मैंने भी अपनी चड्डी छोड़कर सारे कपड़े उतार दिए। तो वो फिर से मेरी गोद में आकर बैठ गयी और मुझे चूमने लगी। फिर मैंने भी उसके होंठो को चूमना शुरू कर दिया, उसके लिप्स बहुत गर्म थे। अब में उसकी पीठ पर अपना एक हाथ फैरने लगा था और वो भी मेरे होंठो को चूमते हुए मेरी पीठ को सहलाने लगी थी। अब मेरा लंड एकदम उसकी चूत से सटा हुआ था, लेकिन बीच में उसकी पेंटी आ रही थी। फिर मैंने उसकी पेंटी नीचे करनी चाही तो वो बोली कि पहले तुम अपनी चड्डी उतारो, उसके बाद मेरी पेंटी उतारना। फिर मैंने अपनी चड्डी उतारने के बाद उसकी पेंटी को भी उतार दिया। फिर मैंने उसकी ब्रा को भी खोलकर फेंक दिया, अब हम दोनों एकदम नंगे थे। फिर मैंने उसे बेड पर ले जाकर बैठा दिया। फिर मैंने उसके होंठो को चूमना और उसकी पीठ पर हाथ फैरना शुरू कर दिया और फिर थोड़ी देर बाद मैंने अपनी जीभ उसके मुँह में डाल दी और घुमाने लगा।

फिर मेरी जीभ निकालने के बाद उसने भी वैसा ही किया। अब वो खूब मज़े से मेरे होंठो को चूस रही थी और मेरी पीठ पर हाथ फैर रही थी। फिर थोड़ी देर के बाद मैंने अपना एक हाथ उसकी चूत पर रख दिया तो वो मुझसे एकदम से लिपट गयी, उसकी चूत एकदम साफ और चिकनी थी। फिर मैंने उसकी चूत पर अपना हाथ फैरते फैरते अपनी एक उंगली उसकी चूत में डाल दी, उसकी चूत एकदम गीली थी। फिर थोड़ी देर बाद मैंने अपनी पूरी उंगली उसकी चूत में डाल दी और अंदर बाहर करने लगा तो उसने भी मेरा लंड पकड़ लिया और उसे सहलाने लगी। अब 5 मिनट में ही हम दोनों एकदम जोश में आ गये थे। फिर मैंने उसे बेड पर लेटा दिया और उसके पैरों के बीच में आ गया। फिर मैंने अपने लंड का सुपाड़ा उसकी चूत के बीच में रखा तो उसने अपना चूतड़ ऊपर की तरफ उठा दिया।

फिर मैंने एक जोर का धक्का लगाया तो मेरा आधा लंड उसकी चूत में घुस गया। तो वो बोली कि जल्दी डालो अपना पूरा लंड मेरी चूत में, खूब चोदो मुझे, मेरी इस तरह से चुदाई करो जैसी मेरे पति ने कभी ना की हो, खूब ज़ोर-ज़ोर से चोदना मुझको, आज फाड़ देना मेरी चूत को, रुकना मत। फिर मैंने फिर से एक जोर का धक्का लगाया तो मेरा पूरा लंड उसकी चूत में समा गया। अब उसने अपने दोनों पैरों को मेरी कमर पर कसकर लपेट लिया था। फिर मैंने भी उसकी चुदाई तेज़ी के साथ करनी शुरू कर दी। अब वो पूरे जोश में आकर बोलने लगी थी आह बहुत मज़ा आ रहा है, चोदो मेरे राज़ा, फाड़ डालो आज इस कुत्तिया की चूत को, आह्ह्ह और तेज-तेज। अब में उसके चिल्लाने से और जोश में आ गया था और उसे एकदम तूफान की तरह चोदने लगा था। अब पूरा बेड ज़ोर-ज़ोर से हिल रहा था, अब इस समय में एकदम सातवें आसमान पर था। इसी बीच मैंने अपना लंड पूरा बाहर निकाला और वापस से एक झटके में ही उसकी चूत में डाल दिया। फिर वो चिल्ला उठी और उसने मुझे और ज़ोर से पकड़ा और मुझसे लिपट गयी।

Best Hindi sex stories © 2017

Online porn video at mobile phone