Best Hindi sex stories

Sab se achi Indian Hindi sex kahaniya!

देसी भाभी के साथ सेक्स किया -2


Click to this video!

antarvasna फिर तब मैंने कहा कि आज तक मैंने सिर्फ़ आपको याद करके ये किया है, अगर आप नाराज नहीं हो तो में आपकी इजाज्त में ये करना चाहता हूँ। फिर पहले तो वो थोड़ी हिचकिचाई और बाद में चुप बैठी रही। अब में उसका इशारा समझ गया था। तब मैंने उठकर अपनी पेंट की क्लिप खोली और फिर चैन खोली और फिर मैंने अपनी अंडरवेयर खोल दी। अब वो मेरी तरफ ही देख रही थी। फिर अचानक से उसने नीचे देखा और बोल पड़ी कि हाए माँ। तब मैंने कहा कि क्या है? तो तब वो कुछ नहीं बोली। फिर मैंने अपनी पेंट और अंडरवेयर दोनों ही निकालकर बाजू में रख दी और ठीक उसके सामने जाकर खड़ा हो गया और उसको देखते हुए मुठ मारने लगा था। अब वो मेरे लंड की तरफ ही देख रही थी। फिर थोड़ी देर तक मुठ मारने के बाद मैंने देखा तो उसका चेहरा लाल हो गया था और उसकी साँसे तेज चल रही थी। यह देखकर में और उसके नजदीक गया।

अब मेरे लंड और उसके मुँह के बीच में थोड़ा सा ही अंतर रह गया था। तब मैंने कहा कि आप पकड़ो ना, तो वो पहले तो शर्मा गयी। तब मैंने उसका एक हाथ उठाकर मेरे लंड को पकड़ा दिया। पहले तो उसने अपना हाथ खींच लिया, लेकिन फिर बाद में वापस से पकड़कर दबाने लगी। तो तब मैंने कहा कि दबाओ नहीं, मुठ मारो। तब उसने कहा कि मैंने पहले इतना मोटा लंड कभी नहीं देखा है, मेरे पति का तो छोटा सा और पतला है। तब मैंने कहा कि यह तुम्हारा ही है, अब अंदर चलकर बाकि का काम निपटा लो। तब वो तुरंत ही उठकर मुझे मेरे लंड को पकड़े हुए खींचकर ले गयी। फिर मैंने भी उसके कूल्हों पर एक चिमटी काटी और उसके साथ अंदर बेडरूम में चल दिया। फिर मैंने उसको लेटाकर पहले तो दरवाजा बंद कर दिया और बाद में उसके ऊपर जाकर लेट गया, वो साड़ी पहने हुए थी। फिर मैंने उसकी साड़ी निकालकर फेंक दी और ब्लाउज और ब्रा भी निकाल दी। अब में उसके एक बूब्स को अपने मुँह में लेकर चूसने लगा था और अपने एक हाथ से उसका दूसरा बूब्स दबा रहा था।

फिर मैंने उसके पेट पर एक चुम्मा करने के बाद उसका पेटिकोट और पेंटी निकाल दी। अब मुझे तो वो पहले ही नंगा कर चुकी थी। अब वो बेताब हो रही थी, लेकिन मैंने धीरे से उसकी चूत को चाटना शुरू किया। अब उसकी साँसें तेज चल रही थी। अब वो बोल रही थी हाए ऐसा तो मेरे पति ने अभी तक नहीं किया। तो तब मैंने कहा कि तू देखती जा तेरे पति से भी ज़्यादा सुख में तुझे दूँगा और ये कहकर मैंने उसे पलट दिया और उसके कूल्हों को अपने दोनों हाथों से खींचकर उसकी गांड को चाटने लगा था। तब वो एकदम से बोल पड़ी कि यह तू कहाँ चाट रहा है? तो तब मैंने कहा कि चुप, मुझे तेरा हर रस पीना है और फिर उसके बाद में खड़ा हो गया और उसे मेरा लंड अपने मुँह में लेने की बोला तो वो मेरा पूरा लंड अपने मुँह में लेकर चूसने लगी और में बोलता गया अर्चना रंडी की तरह चूस, आज से यह तेरे लिए ही है। अब वो ज़ोर-ज़ोर से मेरा लंड चूसने लगी थी और फिर बाद में अपने मुँह से निकालकर बोली कि अब मुझे चोद दो। तब में उसके ऊपर लेट गया और उसकी थोड़ी सी कमर ऊपर उठाई तो उसने मेरा लंड पकड़कर उसकी चूत में घुसा दिया।

अब में धक्के मारने लगा था और वो सिसकारी लेती रही और बोली कि हाए बहुत मज़ा आ रहा है। फिर तब मैंने कहा कि में तो तुझे शरीफ समझता था, लेकिन तू तो पूरी रंडी है। तब वो बोली कि क्यों शरीफ औरतों के चूत नहीं होती क्या? वो नहीं चुदवाती है क्या? तो तब मैंने कहा कि हाँ मेरी जान, मेरी रंडी, अर्चना तेरी चूत तो बहुत प्यासी है। फिर मैंने उससे कहा कि तू कुत्ती जैसे बन जा, में तेरी पीछे से लूँगा। तब वो बोली कि कहाँ गांड में? तो तब मैंने कहा कि हाँ। तो उसने मना कर दिया और आगे से ही लेने को बोलने लगी, लेकिन मैंने जबरदस्ती से पीछे से उसकी गांड में अपना आधा लंड घुसा दिया तो वो दर्द के मारे चिल्ला उठी। अब ये सुनकर मुझे जोश आ गया था और मेरा लंड पूरा ही उसकी गांड घुसा दिया और उसकी गांड फाड़ डाली और वो बोलती रही धीरे-धीरे, लेकिन में ज़ोर-ज़ोर से करता रहा। फिर मैंने अपना लंड निकालकर उसके बूब्स के बीच में रख दिया और झड़ गया। अब उस दिन से हमें जब कभी भी कोई मौका मिलता है, तो तब हम चुदाई कर लेते है। अब तो मेरे पापा का ट्रान्सफर हो गया है। अब वो मुझे कभी-कभी ही मिलती है, लेकिन वो जब भी फोन करती है तो वो बोलती जरूर है, तेरा लंड बहुत याद आता है ।।

धन्यवाद …

Best Hindi sex stories © 2017

Online porn video at mobile phone